हिंदी शायरी - Romantic And Sad Hindi Poetry

रोमांटिक और दर्द भरी हिंदी शेर ओ शायरी संग्रह - २ लाइन शायरी, 4 लाइन शायरी और ग़ज़ल


गैर शायरी हिंदी में – तुम तो अपने थे ज़रा


तुम तो अपने थे ज़रा हाथ बढ़ाया होता,
गैर भी डूबने वाले को बचा लेते हैं…




Related Posts

गैर शायरी हिंदी में – मैं खुद भी अपने लिए

मैं खुद भी अपने लिए अजनबी हूँ, मुझे गैर कहने वाले – तेरी बात में दम है…!!!

गैर शायरी हिंदी में – मेरा होकर भी गैर की

मेरा होकर भी गैर की जागीर लगता है, दिल भी साला मसला-ऐ-कश्मीर लगता है !

गैर शायरी हिंदी में – दर्द का सबब बढ़ जाता

दर्द का सबब बढ़ जाता है और भी, जब तेरे होते हुए भी गैर हमें तसल्ली देते है….!!!

गैर शायरी हिंदी में – तेरी हालत से लगता है

तेरी हालत से लगता है तेरा अपना था कोई इतनी सादगी से बर्बाद कोई गैर नहीं करता

गैर शायरी हिंदी में – यूँ गैर मत बनाओ मुझको

यूँ गैर मत बनाओ मुझको उस गैर के लिये

गैर शायरी हिंदी में – जिक्र तेरा हुआ तो हम

जिक्र तेरा हुआ तो हम महफ़िल छोड़ आये,,, हमें गैरों के लबों पे तेरा नाम अच्छा नहीं लगता….

गैर शायरी हिंदी में – पहुँच गए हैं कई राज

पहुँच गए हैं, कई राज मेरे गैरों के पास, कर लिया था मशवरा, इक रोज़ अपनों के साथ…!!

गैर शायरी हिंदी में – कभी तुम मुझे अपना तो

कभी तुम मुझे अपना तो कभी गैर करते गये, देख मेरी नादानी हम सिर्फ तुम्हे अपना कहते गये…!!

गैर शायरी हिंदी में – बेगाने जो शुरू से हैं

बेगाने जो शुरू से हैं उनका जिक्र क्या, अपने भी गैर हो गये, इसका मलाल है !!

गैर शायरी हिंदी में – कभी “खुद” से मिला मेरे

कभी “खुद” से मिला मेरे मौला…. थक गया हूं गैरों से मिलते मिलते…


Leave a Reply

PalPalDilKePass © 2016