हिंदी शायरी - Romantic And Sad Hindi Poetry

रोमांटिक और दर्द भरी हिंदी शेर ओ शायरी संग्रह - २ लाइन शायरी, 4 लाइन शायरी और ग़ज़ल


नसीब शायरी हिंदी में – हर खुशी दिल के करीब


हर खुशी दिल के करीब नही होती..
ज़िंदगी ग़मो से दूर नहीं होती..
इस दोस्ती को संभाल कर रखना..
क्यूंकि दोस्ती हर किसी को नसीब नहीं होती..!!..




Related Posts

नसीब शायरी हिंदी में – दिल में है जो दर्द

दिल में है जो दर्द वो दर्द किसे बताएं! हंसते हुए ये ज़ख्म किसे दिखाएँ! कहती है ये दुनिया हमे खुश नसीब! मगर इस नसीब की दास्ताँ किसे बताएं

नसीब शायरी हिंदी में – डोर-कटी पतंग सी जिंदगी

डोर-कटी पतंग सी जिंदगी, नसीब जैसे उमड़ता तूफ़ान कोई.

नसीब शायरी हिंदी में – रजाईयां कहाँ होती है आशिक़ों

रजाईयां कहाँ होती है आशिक़ों के नसीब में, वो तो अधूरे ख्वाब ओढ़कर सोते है !!

तुम्हारी याद शायरी हिंदी में – एक शाम आती है तुम्हारी

एक शाम आती है तुम्हारी याद लेकर एक शाम जाती है तुम्हारी याद देकर पर मुझे तो उस शाम का इंतेज़ार है जो आए तुम्हे साथ लेकर..!!

वफ़ा शायरी हिंदी में – परवाह करने वाले रूला जाते

परवाह करने वाले रूला जाते है, अपना समझने वाले पराया बना जाते है, चाहे जितनी वफाऐं कर लो इनसे, न छोडेगे तुमको कहकर छोड जाते हैं….!

इबादत शायरी हिंदी में – तेरे पास में बैठना भी

तेरे पास में बैठना भी इबादत तुझे दूर से देखना भी इबादत…. न माला, न मंतर, न पूजा, न सजदा तुझे हर घड़ी सोचना भी इबादत….

चैन शायरी हिंदी में – आँखों मे ख्वाब उतरने नही

आँखों मे ख्वाब उतरने नही देता वो शख्स मुझे चैन से मरने नही देता बिछड़े तो अजब प्यार जताता है खतों मे मिल जाए तो फिर हद से गुजरने नही देता.

आरज़ू शायरी हिंदी में – आज ..खुद को तुझमे डुबोने

आज ..खुद को तुझमे डुबोने की आरज़ू है। क़यामत तक सिर्फ तेरा होने की आरज़ू है। किसने कहा गले से लगा ले मुझको, मग़र तेरी गोद में सर रखकर सोने की आरज़ू है।

तमन्ना शायरी हिंदी में – पलकों में कैद रहने दो

पलकों में कैद रहने दो सपनो को, उन्हें तो हकीक़त में बदलना है, इन आँखों की तो एक ही तमन्ना है, की हर वक़्त आपको मुस्कुराते देखना है.

वफ़ा शायरी हिंदी में – तेरे होते हुए भी तन्हाई

तेरे होते हुए भी तन्हाई मिली है, वफ़ा करके भी देखो बुराई मिली है, जितनी दुआ की तुम्हे पाने की, उस से ज़यादा तेरी जुदाई मिली है…


Leave a Reply

PalPalDilKePass © 2016