हिंदी शायरी - Romantic And Sad Hindi Poetry

रोमांटिक और दर्द भरी हिंदी शेर ओ शायरी संग्रह - २ लाइन शायरी, 4 लाइन शायरी और ग़ज़ल


परवाह शायरी हिंदी में – रस्मों रिवाज की जो परवाह


रस्मों रिवाज की जो परवाह करते हैं,
प्यार में वो लोग गुनाह करते हैं
इश्क वो जुनून है जिसमें दीवाने
अपनी खुशी से खुद को तबाह करते हैं।




Related Posts

परवाह शायरी हिंदी में – चाहत के ये कैसे अफ़साने

चाहत के ये कैसे अफ़साने हुए; खुद नज़रों में अपनी बेगाने हुए; अब दुनिया की नहीं कोई परवाह हमें; इश्क़ में तेरे इस कदर दीवाने हुए।

परवाह शायरी हिंदी में – होगा अफसोस जब हम ना

होगा अफसोस जब हम ना होगे, तेरी आँखों से आँसू क़म ना होगे, बहुत मिलेंगे तेरे अरमानो से खेलने वाले, लेकिन उस वक़्त तेरी परवाह करने वाले हम ना होगे।।

परवाह शायरी हिंदी में – अंधेरी दुनिया की परवाह किसे

अंधेरी दुनिया की परवाह किसे है मेरे तो सपनों में तुम ही तुम हो किसी से क्या कहूँ मैं अपने बारे में मेरी तो हर बातों में तुम ही तुम हो

परवाह शायरी हिंदी में – उन लोगों को कभी नजरअंदाज

उन लोगों को कभी नजरअंदाज मत करो जो तुम्हारी परवाह करते हैं, और उन लोगों की कभी परवाह मत करो जो तुम्हे नजरअंदाज करते हैं।

परवाह शायरी हिंदी में – किसी को जान से ज्यादा

किसी को जान से ज्यादा चाहने की गलती कभी मत करना क्या पता तुम्हारी इतनी परवाह उसे लापरवाह बनादे।

तुम्हारी याद शायरी हिंदी में – एक शाम आती है तुम्हारी

एक शाम आती है तुम्हारी याद लेकर एक शाम जाती है तुम्हारी याद देकर पर मुझे तो उस शाम का इंतेज़ार है जो आए तुम्हे साथ लेकर..!!

वफ़ा शायरी हिंदी में – परवाह करने वाले रूला जाते

परवाह करने वाले रूला जाते है, अपना समझने वाले पराया बना जाते है, चाहे जितनी वफाऐं कर लो इनसे, न छोडेगे तुमको कहकर छोड जाते हैं….!

इबादत शायरी हिंदी में – तेरे पास में बैठना भी

तेरे पास में बैठना भी इबादत तुझे दूर से देखना भी इबादत…. न माला, न मंतर, न पूजा, न सजदा तुझे हर घड़ी सोचना भी इबादत….

चैन शायरी हिंदी में – आँखों मे ख्वाब उतरने नही

आँखों मे ख्वाब उतरने नही देता वो शख्स मुझे चैन से मरने नही देता बिछड़े तो अजब प्यार जताता है खतों मे मिल जाए तो फिर हद से गुजरने नही देता.

आरज़ू शायरी हिंदी में – आज ..खुद को तुझमे डुबोने

आज ..खुद को तुझमे डुबोने की आरज़ू है। क़यामत तक सिर्फ तेरा होने की आरज़ू है। किसने कहा गले से लगा ले मुझको, मग़र तेरी गोद में सर रखकर सोने की आरज़ू है।


Leave a Reply

PalPalDilKePass © 2016