हिंदी शायरी - Romantic And Sad Hindi Poetry

रोमांटिक और दर्द भरी हिंदी शेर ओ शायरी संग्रह - २ लाइन शायरी, 4 लाइन शायरी और ग़ज़ल




फितरत शायरी हिंदी में – उनकी फितरत परिंदों सी थी

उनकी फितरत परिंदों सी थी,
मेरा मिज़ाज दरख़्तों जैसा,
उन्हें उड़ जाना था,
और मुझे कायम ही रहना था !!




Related Posts

फितरत शायरी हिंदी में – आग लगाना मेरी फितरत में

आग लगाना मेरी फितरत में नही है मेरी सादगी से लोग जलें तो मेरा क्या

फितरत शायरी हिंदी में – क्या मिलना ऐसे लोगो से

क्या मिलना ऐसे लोगो से जिनकी फितरत छुपी रहे, नकली चेहरा सामने आये और असली सूरत छुपी रहे…

फितरत शायरी हिंदी में – दुश्मन भी दुआ देते हैं

दुश्मन भी दुआ देते हैं मेरी फितरत ऐसी है l दोस्त भी दगा देते हैं मेरी किस्मत ऐसी है ll

फितरत शायरी हिंदी में – अदब से झुक जाना हमारी

अदब से झुक जाना हमारी फितरत में शामिल था ऐ खुदा! हम क्या झुके.. लोग खुदा हो गए…

फितरत शायरी हिंदी में – हर कोई रखता है ख़बर

हर कोई रखता है ख़बर ग़ैरों के गुनाहों की अजब फितरत हैं कोई आइना नहीं रखता।

फितरत शायरी हिंदी में – इश्क की चाकरी मिलती नही

इश्क की चाकरी मिलती नही खैरात में, दिल में फकीरी और फितरत सूफियाना चाहिए…!!!

फितरत शायरी हिंदी में – ऐसा नही कि मेरे इन्तजार

ऐसा नही कि, मेरे इन्तजार की…उन्हें खबर नही, लेकिन…. तड़पाने की आदत तो….उनकी फितरत में शुमार है…..!!

फितरत शायरी हिंदी में – मेरी फितरत में नहीं हैं

मेरी फितरत में नहीं हैं किसी से नाराज होना, नाराज वो होतें हैं जिन्हें अपनेआप पर गुरूर होता है।।

फितरत शायरी हिंदी में – सिखा दिया ‘तुने’ मुझे… अपनों

सिखा दिया ‘तुने’ मुझे… अपनों पर भी ‘शक’ करना… मेरी ‘फितरत’ में तो था… गैरों पर भी ‘भरोसा’ करना….

2 Lines Romantic Shayari – Aakhiri Aarzoo Bas Tum Ho

नहीं है अब कोई जुस्तजू इस दिल में ए सनम, मेरी पहली और आखिरी आरज़ू बस तुम हो।




Leave a Reply

PalPalDilKePass © 2016