हिंदी शायरी - Romantic And Sad Hindi Poetry

रोमांटिक और दर्द भरी हिंदी शेर ओ शायरी संग्रह - २ लाइन शायरी, 4 लाइन शायरी और ग़ज़ल

वजूद शायरी हिंदी में – मिरे महबूब इतराते फिरते थे


मिरे महबूब इतराते फिरते थे जवानी पे अपनी ।
मिरे बिना अपना वजूद जो देखा तो रूह कांप गई ।।





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

PalPalDilKePass © 2016