हिंदी शायरी - Romantic And Sad Hindi Poetry

रोमांटिक और दर्द भरी हिंदी शेर ओ शायरी संग्रह - २ लाइन शायरी, 4 लाइन शायरी और ग़ज़ल

Ahmad Faraz Sher O Shayari – एक ही ज़ख्म नहीं सारा


एक ही ज़ख्म नहीं सारा बदन ज़ख्मी है “फ़राज़”
दर्द हैरान है की उठूँ तो कहाँ से उठूँ





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

PalPalDilKePass © 2016