हिंदी शायरी - Romantic And Sad Hindi Poetry

रोमांटिक और दर्द भरी हिंदी शेर ओ शायरी संग्रह - २ लाइन शायरी, 4 लाइन शायरी और ग़ज़ल

Category: गैर शायरी

गैर शायरी हिंदी में – मैं खुद भी अपने लिए


मैं खुद भी अपने लिए अजनबी हूँ,
मुझे गैर कहने वाले – तेरी बात में दम है…!!!

गैर शायरी हिंदी में – दर्द का सबब बढ़ जाता

दर्द का सबब बढ़ जाता है और भी,
जब तेरे होते हुए भी गैर हमें तसल्ली देते है….!!!


गैर शायरी हिंदी में – जिक्र तेरा हुआ तो हम


जिक्र तेरा हुआ तो हम महफ़िल छोड़ आये,,,
हमें गैरों के लबों पे तेरा नाम
अच्छा नहीं लगता….

गैर शायरी हिंदी में – मैने कब कहा मुझे गुलाब

मैने कब कहा मुझे गुलाब दे
या फिर मुहब्बत से आवाज दे

आज बहुत उदास है दिल मेरा
गैर बन के ही सही मगर मुझे तू आवाज दे

Page 1 of 212
PalPalDilKePass © 2016