हिंदी शायरी - Romantic And Sad Hindi Poetry

रोमांटिक और दर्द भरी हिंदी शेर ओ शायरी संग्रह - २ लाइन शायरी, 4 लाइन शायरी और ग़ज़ल

Category: महबूब शायरी

महबूब शायरी हिंदी में – मुस्कुरा मत खुल के तू


मुस्कुरा मत खुल के तू, ‘ मेहबूब ‘ मेरे, मान जा,
‘आइनों’ का शहर है, घर- घर खबर हो जायेगी ||

महबूब शायरी हिंदी में – ऐ मौसम ज़रा रेहम कर

ऐ मौसम ज़रा रेहम कर दिलों पर,,
जरुरी नही हर मेहबूब अपने प्यार के साथ हो,,


महबूब शायरी हिंदी में – बारिश के बाद इन हवाओं

बारिश के बाद इन हवाओं का,
यूँ मचल के चलना ….उफ्फ्फ
अपने मेहबूब से मिलकर कोई,
मेहबूबा इतराई हो जैसे ।।।

महबूब शायरी हिंदी में – ऐ बारिश ज़रा दो पल


ऐ बारिश ज़रा दो पल को थम भी जा
मेरे कागज़ी अरमानो की कश्ती
मेहबूब तक पोहंच जाने दे

महबूब शायरी हिंदी में – दर्द का क्या है दर्द

दर्द का क्या है, दर्द भी तो मेहबूब की तरह बेवफा ही है
मिली कोई ख़ुशी ख़ूबसूरत सी, दर्द खुदसे बेवफाई कर लेता है..

PalPalDilKePass © 2016