हिंदी शायरी - Romantic And Sad Hindi Poetry

रोमांटिक और दर्द भरी हिंदी शेर ओ शायरी संग्रह - २ लाइन शायरी, 4 लाइन शायरी और ग़ज़ल

Ahmad Faraz Ki Shayari – महफ़िल से उठ के


महफ़िल से उठ के जाना तो कोई बात नहीं थी फ़राज़
मेरा मुड़ मुड़ के देखना उसे बदनाम कर गया

Ahmad Faraz Ki Shayari – बस यही आदत उसकी

बस यही आदत उसकी मुझे अच्छी लगती है फ़राज़
उदास कर के मुझे भी वो खुश नहीं रहता


Ahmad Faraz Ki Shayari – बच न सका ख़ुदा भी


बच न सका ख़ुदा भी मुहब्बत के तकाज़ों से फ़राज़
एक महबूब की खातिर सारा जहाँ बना डाला

Page 10 of 227« First...89101112...203040...Last »
PalPalDilKePass © 2016