आरज़ू शायरी हिंदी में – न किसी के दिल की

न किसी के दिल की हूँ आरज़ू
न किसी नज़र की हूँ जुस्तजू
मैं वो फूल हूँ जो उदास हो
न बहार आए तो क्या करूँ

Leave a Reply