ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ,
मुझे तुम से मोहब्बत है बताना भूल जाता हूँ!!

तेरी गलियो मे फिरना इतना अच्छा लगता है,
मै रास्ता याद रखता हूँ ठिकाना भूल जाता हूँ!!

बस इतनी बात पर मै लोगो को अच्छा नही लगता,
मै नेकी कर तो देता हूँ जताना भूल जाता हूँ!!

शरारत ले के आंखो मे वो तेरा देखना तौबा,
मै तेरी नज़रो पे जमी नज़रे झुकाना भूल जाता हूँ!!

मोहब्बत कब हुई कैसे हुई सब याद है मुझको,
मै कर के मोहब्बत को भुलाना भूल जाता हूँ!!

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ,
मुझे तुम से मोहब्बत है बताना भूल जाता हूँ!!


Leave a Reply




पढ़िए…कुछ विशेष शायरी कलेक्शन - जिनमें स्पेशल शब्दों को शामिल किया गया है

इन्हे भी पढ़े…..