नई सुप्रभात शायरी – “हर एक नयी सुबह हम

“हर एक नयी सुबह हम फिर से पैदा होते हैं, हम आज क्या करते हैं यही मांयने रखता है ।”

Leave a Reply