माँ शायरी हिंदी में – दास्तान मेरे लाड़-प्यार की बस

दास्तान मेरे लाड़-प्यार की बस,
एक हस्ती के गिर्द घूमती है,
प्यार जन्नत से इसलिए है मुझे,
क्योंकि ये भी मेरी माँ के क़दम चूमती है।


Leave a Reply




पढ़िए…कुछ विशेष शायरी कलेक्शन - जिनमें स्पेशल शब्दों को शामिल किया गया है

इन्हे भी पढ़े…..