लेटेस्ट सुप्रभात शायरी – हँसी आपकी कोई चुरा ही

हँसी आपकी कोई चुरा ही ना पाये,
कभी कोई आपको रुला ना पाये,
खुशियों के ऐसे दीप जले ज़िंदगी में,
कि कोई तूफ़ान भी उसे बुझा ना पाये।

Leave a Reply