शुभ रात्रि शायरी – चाँद भी तो देखो तुम्हें

चाँद भी तो देखो तुम्हें तक रहा हैं
सितारे भी थमे थमे से लग रहे हैं
जरा मुस्कुरा दो हम सब के लिए
हम भी तो तुम्हें शुभ रात्रि कह रहें हैं “शुभ रात्रि “


Leave a Reply




पढ़िए…कुछ विशेष शायरी कलेक्शन - जिनमें स्पेशल शब्दों को शामिल किया गया है

इन्हे भी पढ़े…..