सुप्रभात शायरी – वादियों से सूरज निकल आया

वादियों से सूरज निकल आया है;
फिजाओं में नया रंग छाया है;
खामोश क्यों हो अब तो मुस्कुराओ;
आपकी मुस्कान देखने नया सवेरा आया है।
सुप्रभात!

Leave a Reply