2 Lines Sad Shayari – ना खुशी खरीद पाता हूं और

ना खुशी खरीद पाता हूं और ना गम बेच पाता हूं

फिर भी ना जाने क्यूं हर रोज बाजार जाता हूं।


Leave a Reply




पढ़िए…कुछ विशेष शायरी कलेक्शन - जिनमें स्पेशल शब्दों को शामिल किया गया है

इन्हे भी पढ़े…..