2 Lines Sad Shayari – सोचता हूँ एक शमशान बना लुँ

सोचता हूँ एक शमशान बना लुँ दिल के अंदर,
मरती है रोज ख्वाईशें एक एक करके…


Leave a Reply




पढ़िए…कुछ विशेष शायरी कलेक्शन - जिनमें स्पेशल शब्दों को शामिल किया गया है

इन्हे भी पढ़े…..