उल्फत शायरी हिंदी में – आरज़ू मेरी चाहत तेरी तमन्ना मेरी

आरज़ू मेरी, चाहत तेरी,
तमन्ना मेरी, उल्फत तेरी,
इबादत मेरी, मोहब्बत तेरी,
बस तुझ से तुझ तक है दुनिया मेरी

उल्फत शायरी हिंदी में – दिल से निकलेगी न मर

दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की उल्फत I
मेरी मिट्टी से भी खुशबू -ए- वतन आएगी I


उल्फत शायरी हिंदी में – उल्फत की जंजीर से डर

उल्फत की जंजीर से डर लगता हैं,
कुछ अपनी ही तकदीर से डर लगता हैं,
जो जुदा करते हैं, किसी को किसी से,
हाथ की बस उसी लकीर से डर लगता हैं.

उल्फत शायरी हिंदी में – खुदा करे मेरी उल्फत में

खुदा करे, मेरी उल्फत में तुम कुछ यूँ उलझ जाओ
मैं तुमको दिल में भी सोचूँ तो तुम समझ जाओ…


उल्फत शायरी हिंदी में – उल्फत बदल गई कभी नियत

उल्फत बदल गई, कभी नियत बदल गई
खुदगर्ज जब हुए, तो फिर सीरत बदल गई
अपना कुसूर दूसरों के सर पर डाल कर
कुछ लोग सोचते हैं हकीकत बदल गई..

उल्फत शायरी हिंदी में – उस मुसाफ़िर ने फिर और

उस मुसाफ़िर ने फिर और कोई ठिकाना ना चाहा,
जो इक बार तेरी नज़र-ए-उल्फत में कैद हो गया !