खुश्बू शायरी हिंदी में – वक्त के मोड़ पे ये

वक्त के मोड़ पे ये कैसा वक्त आया है
जख्म दिल का जुबाँ पर आया है
न रोते थे कभी कांटो की चुभन से
आज न जाने क्यो फूलो की खुशबू से रोना आया है…


खुश्बू शायरी हिंदी में – खुशबू तेरी प्यार की मुझे

खुशबू तेरी प्यार की मुझे महका जाती है,
तेरी हर बात मुझे बहका जाती है,
साँस तो बहुत देर लेती है आने में,
हर साँस से पहले तेरी याद आ जाती है।


खुश्बू शायरी हिंदी में – सुंदरता हो न हो सादगी

सुंदरता हो न हो, सादगी होनी चाहिए,
खुशबू हो न हो, महक होनी चाहिए,
रिश्ता हो न हो, बंदगी होनी चाहिए,
मुलाकात हो न हो, बात होनी चाहिए,

खुश्बू शायरी हिंदी में – तुम से नाता है यूँ

तुम से नाता है यूँ वफाओं का,
जैसे खुशबू से है हवाओं का,
जैसे रिश्ता है धुप छाओं का,
जैसे जिस्म से रूह और जान का !

खुश्बू शायरी हिंदी में – किनारे बैठी हूँ.. तेरी यादों

किनारे बैठी हूँ.. तेरी यादों के सहारे..
हर लहर इक एहसास जगाती है..
मुझे हवा से भी …तेरी ही खुशबू आती है..





पढ़िए…कुछ विशेष शायरी कलेक्शन - जिनमें स्पेशल शब्दों को शामिल किया गया है

इन्हे भी पढ़े…..