Category: जुदाई शायरी

जुदाई शायरी हिंदी में – किसने माँगी थी इन आँखों

किसने माँगी थी इन आँखों से रिहाई
जाने किस ज़ुर्म की सज़ा है ये जुदाई …

जुदाई शायरी हिंदी में – कोई वादा नहीं फिर भी

कोई वादा नहीं फिर भी प्यार है,
जुदाई के बावजूद, भी तुझपे अधिकार है.
तेरे चेहरे की उदासी दे रही है गवाही,
मुझसे मिलने को तू भी बेक़रार है.

जुदाई शायरी हिंदी में – वादा किया है तो निभाएगे

वादा किया है तो निभाएगे,
सूरज की किरण बनकर तेरी छत पर आएगे.
हम है तो जुदाई का गम कैसा,
तेरी हर सुबह को फूलों से सजाएगे.

जुदाई शायरी हिंदी में – एक लफ्ज़ है

एक लफ्ज़ है जुदाई
इसे सह कर तो देखो !
तुम टूट के बिखर ना जाओ तो कहना !!

एक लफ्ज़ है खुदा
उसे पुकार कर तो देखो !
सब कुछ पा ना लो तो कहना !!!

जुदाई शायरी हिंदी में – मुझे तुम्हारी जुदाई का कोई

मुझे तुम्हारी जुदाई का कोई रंज़ नहीं…
मेरे खयाल की दुनिया में मेरे पास हो तुम

जुदाई शायरी हिंदी में – गम-ए-जुदाई में तड़पते उनकी आँखों

गम-ए-जुदाई में तड़पते उनकी आँखों से पूछा.. कुछ कहना है?उसने झपक झपक के कहा नहीं अब तो बस बहना है !