Category: तलाश शायरी

तलाश शायरी हिंदी में – वजह तो नफरतो कि तलाशी

वजह तो नफरतो कि तलाशी जाती है ।
मोहब्बत तो बेवजह हो जाती है ।

तलाश शायरी हिंदी में – कुछ डरी सहमी ठिठकी और

कुछ डरी सहमी ठिठकी और आगे बढ़ गई..
मजबूर थी क्या करती…गैरत मेरी,
जरूरतों को तलाशने बेशर्मी की हद से गुजर गई.

तलाश शायरी हिंदी में – शुरू तो कर दी तलाश

शुरू तो कर दी तलाश ख़ुद की,
अब तू मिले तो मैं भी मिलु…