Category: दुश्मन शायरी




दुश्मन शायरी हिंदी में – प्यार एहसान नफरत दुश्मनी जो

प्यार, एहसान, नफरत, दुश्मनी जो चाहो वो मुझसे करलो…
आप की कसम वही दुगुना मिलेगा !!


दुश्मन शायरी हिंदी में – तड़पते है नींद के लिए

तड़पते है नींद के लिए तो यही दुआ निकलती है !!!
बहुत बुरी है मोहबत,
किसी दुश्मन को भी ना हो…!!


दुश्मन शायरी हिंदी में – दुश्मन और सिगरेट को जलाने

दुश्मन और सिगरेट को जलाने के
बाद….
उन्हे कुचलने का मज़ा ही कुछ
और होता है……!!!





पढ़िए…कुछ विशेष शायरी कलेक्शन - जिनमें स्पेशल शब्दों को शामिल किया गया है

इन्हे भी पढ़े…..