नज़र शायरी हिंदी में – ये नाज़ो -हुस्न तो देखो

ये नाज़ो -हुस्न तो देखो कि दिल को तड़पाकर,
नज़र मिलाते नहीं, मुस्कुराये जाते हैं….!!



नज़र शायरी हिंदी में – आँखें बोलने को बेताब और

आँखें बोलने को बेताब, और होंठ मुस्कुराने को।
ज़ुल्फें चेहरा छुपाये रहती है, बुरी नज़र से बचाने को।



नज़र शायरी हिंदी में – एक अजीब सा मंजर नज़र

एक अजीब सा मंजर नज़र आता हैं …
हर एक आँसूं समंदर नज़र आता हैं
कहाँ रखूं मैं शीशे सा दिल अपना ..
हर किसी के हाथ मैं पत्थर नज़र आता है

नज़र शायरी हिंदी में – नज़र जो कोई भी तुझ

नज़र जो कोई भी तुझ
सा हसीं नहीं आता
किसी को क्या मुझे
ख़ुद भी यक़ीं नहीं आता..!!