Category: बेरूख़ी शायरी

बेरूख़ी शायरी हिंदी में – उदास कयो होता है ऐ

उदास कयो होता है ऐ दिल उनकी बेरुखी पर……
वो तो बङे लोग है अपनी मर्जी से याद करते है…..!!!

बेरूख़ी शायरी हिंदी में – फेर कर मुंह आप मेरे

फेर कर मुंह आप मेरे सामने से क्या गये,
मेरे जितने क़हक़हे थे आंसुओं तक आ गये,
भला ऐसी भी सनम आख़िर बेरुख़ी है क्या ?
न देखोगे हमारी बेबसी क्या…….?

बेरूख़ी शायरी हिंदी में – अब गिला क्या करना उनकी

अब गिला क्या करना उनकी बेरुखी का…
दिल ही तो था…..भर गया होगा..!

बेरूख़ी शायरी हिंदी में – सालभर….तेरी बेरूखी से कत्ल होते

सालभर….तेरी बेरूखी से कत्ल होते रहे हैं हम,
अब तो तहरीरें बन गई है…उदासियाँ गुजरे साल की।

बेरूख़ी शायरी हिंदी में – तेरी बेरुखी ने छीन ली

तेरी बेरुखी ने छीन ली है
शरारतें मेरी और लोग समझते हैं
कि मैं सुधर गया हूँ ..!!