भूलना शायरी हिंदी में – जिंदगी के भीड़ में बहुत

जिंदगी के भीड़ में बहुत से यार मिलेंगे
हम क्या हमसे अच्छे हज़ार मिलेंगे
इन हजारों के भीड़ में हमें भूलना जाना
हम भी तुम्हें कहां बारबार मिलेंगे

भूलना शायरी हिंदी में – खूबियाँ इतनी तो नहीं हम

खूबियाँ इतनी तो नहीं हम में की किसी के दिल में घर कर जायेंगे…
पर भूलना भी आसन नहीं होगा ऐसा जरुर कुछ कर जायेंगे…!!


भूलना शायरी हिंदी में – जिन शामों में तुझे भूलना

जिन शामों में तुझे भूलना चाहें
वही रातें अज़ाब होती हैं
अपनी यादों के सिलसिले रोको
मेरी नींदे खराब होती हैं

भूलना शायरी हिंदी में – ये किस तरह की ज़िद

ये किस तरह की ज़िद दिल मुझ से करने लगा,
जिसे मैंने भूलना चाहा उसे वो याद करने लगा .


भूलना शायरी हिंदी में – भूलना तो ज़माने की रीत

भूलना तो ज़माने की रीत है,
मग़र तुमने शुरुआत हमसे क्यों की..