रूठना मनाना शायरी हिंदी में – अजीब दास्तां है ईश्क ए

अजीब दास्तां है ईश्क ए महोब्बत की भी
कोई दिल तोड कर भी रूठना नही भुलता
ओर कोई दिल तुडवा कर भी मनाना नही भुलता

रूठना मनाना शायरी हिंदी में – रूठना भी है हसीनों की

रूठना भी है हसीनों की अदा में शामिल
आप का काम मनाना है मनाते रहिए


रूठना मनाना शायरी हिंदी में – रूठना और मनाना दोस्ती का

रूठना और मनाना दोस्ती का उसूल है…
वो दोस्त ही क्या जो रूठा ना हो…


रूठना मनाना शायरी हिंदी में – जरूरी है रूठना और मनाना

जरूरी है रूठना और मनाना मोहब्बत में,
कहते हैं इश्क़ जवां इन्ही अदाओं से रहता है।


रूठना मनाना शायरी हिंदी में – सुनना है. सुनाना है.

सुनना है. सुनाना है.
रूठना है. मनाना है.
हँसाना है. रुलाना है.
इस ज़िंदगी का हर लम्हा.. बस तुम्हारे साथ हीं बिताना है




पढ़िए…कुछ विशेष शायरी कलेक्शन - जिनमें स्पेशल शब्दों को शामिल किया गया है

इन्हे भी पढ़े…..