मुझे इश्क है तुझी से

मुझे इश्क है तुझी से
मेरी जान-ए-जिंदगानी
तेरे पास मेरा दिल है
मेरे प्यार की निशानी

मेरी ज़िन्दगी में तू है
मेरे पास क्या कमी है
जिसे ग़म नहीं खिज़ा का
वो बहार तूने दी है
मेरे हाल पर हुई है
तेरी ख़ास महरबानी
तेरे पास मेरा दिल…

तेरे हुस्न ने दिखाई
मुझे बेखुदी की राहें
ये हसीन लब नशीले
ये झुकी झुकी निगाहें
तेरी ज़ुल्फ़ से उठी है
ये घटाओं की जवानी
तेरे पास मेरा दिल…


Leave a Reply




पढ़िए…कुछ विशेष शायरी कलेक्शन - जिनमें स्पेशल शब्दों को शामिल किया गया है

इन्हे भी पढ़े…..