महबूब शायरी हिंदी में – ऐ मौसम ज़रा रेहम कर

ऐ मौसम ज़रा रेहम कर दिलों पर,,
जरुरी नही हर मेहबूब अपने प्यार के साथ हो,,


महबूब शायरी हिंदी में – ऐ बारिश ज़रा दो पल

ऐ बारिश ज़रा दो पल को थम भी जा
मेरे कागज़ी अरमानो की कश्ती
मेहबूब तक पोहंच जाने दे


महबूब शायरी हिंदी में – दर्द का क्या है दर्द

दर्द का क्या है, दर्द भी तो मेहबूब की तरह बेवफा ही है
मिली कोई ख़ुशी ख़ूबसूरत सी, दर्द खुदसे बेवफाई कर लेता है..

महबूब शायरी हिंदी में – इश्क़वालों में बड़प्पन बहुत ज़रूरी

इश्क़वालों में बड़प्पन बहुत ज़रूरी है ||
छोटे दिल मे मेहबूब बसाये नहीँ जातें ||