Tag: mohabbat 2 lines shayari

मोहब्बत शायरी २ लाइन में – मुस्कुराने से शुरु और रुलाने पे

मुस्कुराने से शुरु और रुलाने पे खतम..
ये वो ज़ुल्म है जिस्से लोग मुहब्बत कहते है .!!

मोहब्बत शायरी २ लाइन में – उस शख्स को पाना, इतना मुश्किल

उस शख्स को पाना, इतना मुश्किल भी नही, मेरे दोस्त..
मगर जब तक दूरी न हो, मुहब्बत का मजा नही आता..!

मोहब्बत शायरी २ लाइन में – किसी पर मर जाने से शुरु

किसी पर मर जाने से शुरु होती है मोहब्बत,
इश्क जिन्दा लोगों का काम नही.