Tag: muddat shayari hindi mein

मुद्दत शायरी हिंदी में – मुद्दत हुई है बिछड़े हुए

मुद्दत हुई है बिछड़े हुए अपने-आप से
देखा जो आज तुम को तो हम याद आ गए

मुद्दत शायरी हिंदी में – खटखटाए न कोई दरवाजा बाद

खटखटाए न कोई दरवाजा, बाद मुद्दत मैं खुद में आया हूँ…
एक ही शख़्स मेरा अपना है, मैं उसी शख़्स से पराया हूँ.

मुद्दत शायरी हिंदी में – मुद्दत हुई कि ज़िंदा हूँ

मुद्दत हुई कि ज़िंदा हूँ देखे बग़ैर उसे
वो शख़्स मेरे दिल से उतर तो नहीं गया

मुद्दत शायरी हिंदी में – बड़ी मुद्दत से चाहा है

बड़ी मुद्दत से चाहा है तुम्हें;
बड़ी दुआओं से पाया है तुम्हें;
तुम ने भुलाने का सोचा भी कैसे;
किस्मत की लकीरों से चुराया है तुम्हें।

मुद्दत शायरी हिंदी में – बेरुख़ी इससे बड़ी और भला

बेरुख़ी इससे बड़ी और भला क्या होगी
एक मुद्दत से हमें उस ने सताया भी नहीं

मुद्दत शायरी हिंदी में – दूर रहकर ना करो बात

दूर रहकर ना करो बात क़रीब आ जाओ
याद रह जाएगी ये रात क़रीब आ आ जाओ
एक मुद्दत से तमन्ना थी तुम्हें छूने की
आज बस में नहीं ज़ज़्बात क़रीब आ जाओ