Tag: mulaqaat shayari

Hindi Shayari – खामोशिया…. बोल देती है

खामोशिया…. बोल देती है…
जिनकी… बातें नहीं होती…
इश्क़ वो भी करते है…….
जिनकी…. मुलाकाते नहीं होती ….!!

मुलाक़ात शायरी हिंदी में – छू जाती है तुम्हारी बातेकितनी

छू जाती है तुम्हारी बाते,कितनी दफ़े यूँ ही ख़्वाब बन के,
कौन कहता है कि दूर रह कर मुलाक़ात नहीं होती।

मुलाक़ात शायरी हिंदी में – दिल साफ़ करके मुलाक़ात की

दिल साफ़ करके मुलाक़ात की आदत डालो,
धूल हटती है तो आईने भी चमक उठते हैं..!

मुलाक़ात शायरी हिंदी में – सोचता हूँ कुछ दोस्तों पर

सोचता हूँ कुछ दोस्तों पर मुकदमा कर दूँ…!
इसी बहाने तारीखों पर मुलाक़ात तो होगी….!!