Tag: shiddat shayari

शिद्दत शायरी हिंदी में – ख़ुदगर्ज़ बना देती है तलब

ख़ुदगर्ज़ बना देती है तलब की शिद्दत भी,
प्यासे को कोई दूसरा प्यासा नहीं लगता…

शिद्दत शायरी हिंदी में – ख्वाहिशें तभी मुक़म्मल होती है

ख्वाहिशें तभी मुक़म्मल होती है,
जब तलब भी शिद्दत से भरी हो!!

शिद्दत शायरी हिंदी में – कभी तन्हा हो तो वो

कभी तन्हा हो तो वो लम्हा याद करना,
बस एक बार,हमें शिद्दत से याद करना..
तुम्हें,उस नाकाम मोहब्बत की कसम है,
न इस तरह,फिर किसी को बर्बाद करना.

शिद्दत शायरी हिंदी में – ज़ख्म देकर ना पूछा करो

ज़ख्म देकर ना पूछा करो दर्द की शिद्दत..
दर्द तो दर्द होता है, थोड़ा क्या और ज़्यादा क्या..